adcode

Saturday, 11 November 2017

अार्थिक नही मानसिक विकास पे दिजिए ध्यान

अभी हाल ही मे प्रदयूमन हत्याकांड के बारे मे सबने सुना अोर पढा ओर जब हरियाणा पुलिस कि जांच शक के दायरे मे अाई तो यह केस सीबीआई के पास गया| लेकिन सीबीअाई कि जो रिर्पोट अाई उसने तो मुझे तो अाशचर्य मे डाल दिया ओर मै अकेला नही युवा पीढी के कई युवाओ को अचंभित किया होगा| अाज तक यह जरुर सुना था कि किसी वर्ग का दूसरे वर्ग से झगडा हो गया,अार्थिक परेशानी के चलते शख्स ने कि हत्या,अापसी रंजिश के चलते पुरे परिवार को मौेेत के घाट उतारा|परंतु यह नहि सोचा था कि कभी यह भी सुनने को मिलेगा कि परीक्षा रद्ध कराने के लिए पेरेंट मीटींग कैंसल कराने के लिए 11 कक्षा के छात्र ने कि हत्या| अोर भी कई उदाहरण है जैसे 1 रुपये के लिए गई हत्या,होटल मे पराठे के उपर कि गयी हत्या मतलब सोचने वाली बात यह है कि इंसान कि जान की कोई कीमत नहि रह गयी| 1 रुपये जी अापने सही सुना दोस्तो 1 रुप‌ये यही एक इंसान कि जान कि कीमत वो तो भला हो सरकार का जो अठ्ठनी-चव्न्नी के सिक्के निषेध कर दिये नही तो वो दिन भी दूर नही था कि अठ्ठनी,25 पैसे के लिए एक शक्श ने गोली से कि हत्या| यह सब जब सुनने को  मिलता दिमाग मे बात अाती है  कौन से समय अोर किस समाज का निर्माण कर रहे है| हम अपनी अाने वाली पीढी के लिए,क्या उदाहर्ण रख रहे है| अाज हम समाज के उस निम्न स्तर पर पहुंच चुके है |जहां से नीचे जाना भी संभव नही एक कहावत है कि कितना नीचे गिरेगा भाई? लेकिन नीचे गिरने के लिए भी धरती चाहिए होती है अब कही कहावत बदलनी ना पडे कहां गिरेगा भाई गिरने के लिए कुछ बचा ही नही| तो एसी स्थिति मे तो केवल अाप उपर उठने कि ओर ही देख सकते है| अर्थात समाज का स्तर उठाने से अाजकल दौड-भाग की जिंदगी हो गई हर कोई अपने से सामने वाले को कुचलकर अागे बढना चाहता है| इन्ही सब मे हम अपने बच्चो का अार्थिक,स्वास्थिक विकास कि और तो ध्यान देते है लेकिन मानसिक विकास को कोई ध्यान नही देते जिसका परिणाम यह घटनाए है| अरे भाई जब अाप मानसिक तौर पे सक्षम होंगे तो बाकि सब अपने आप ही ठीक हो जायेगा| शरीर कि बजाए मनुषय के गुणो उसका अांतरिक विकास कि ओेर ध्यान दे तो ही जाके कुछ बदलाव होगा पुरानी कहावत है इंसान को दो तरह कि 'भूख लगती है पेट कि ओर चेतन (मन) कि पेट कि भूख को मिटाने का प्रयास हर कोई करता है| पर मन या दिमाग कि भूख कि ओर  उसका ध्यान नही जाता मनोवैज्ञानिक चिकित्सक भी कहते है कि 10से15 वर्ष कि अायु एसी होेती है कि वहां पे वयक्ति सबसे ज्यादा प्रशन करता है| ओर उस अवस्था मे सबसे ज्यादा जरुरत मां-बाप को अपने बच्चे पर ध्यान देने कि होती है,एसी स्थिति मे बच्चे कि वैचारिक,सोचने-समझने कि शक्ति को विकसित जिससे वो कोई भी कदम उठाने से पहले २ बार सोचे सही है या गलत| जैसा कि इस केस मे बच्चे ने कहा कि मै बस पेरेंट मीटींग ओर परीक्षाए कैंसल कराना चाहता था ओर समझने मे नही अाया क्या किया जाए इसलिए यह काम किया| मतलब सोचिए यहां असफलता के भय ११ वी क्क्षा के छात्र से कया करा दिया यह एक प्रकार का मानसिक रोग है जो किसी के साथ भी हो सकता बहतर यहि कि हम युवाओ के बढती उम्र मे मानसिक विकास कि ओर ज्यादा ध्यान दे जिससे खुद सक्षम बन सके| 

Monday, 2 October 2017

अंतराष्टरीय संस्थाओ का नही है कोई लाभ

‌‌अंतराष्टरीय संस्थाओ का नही कोई लाभ केवल पशचिमी देशों ने अपने हितो को थोपने के लिए एसी संस्थाए बनाई है क्या? यह बात मै उत्तर कोरिया के सनकी तानाशाह किम जोंग के संर्दभ मे कह रहा हूं| अमेरिका की चेतावनी संयुक्त राष्ट्र के पाबंदीयो के बावजूद उत्तर कोरिया बाज नही अाया ओर हाईडरोजन बम का सफल परीक्षण किया अोर यहां तक कि संयुक्त राष्ट्र के अपने संबोधन मे अमेरिका को धमकि तक दे डाली| जापान के उपर से मिसाईल छोडना साउथ कोरिया के करीब से मिसाईल परीक्षण करना यह दिखाता कि यदी इस सनकी तानाशाह से जल्दी नहि निपटा गया तो वो जो अंग्रेजी का शब्द है ट्रिगर तीसरे विशव युद्ध की कल्पना हकिकत बने मे देर नही लगेगी| इतना ही नही नामी-ग्रामी अंतराष्ट्रिय संस्थाओं कि अाड मे अपने से संप्न्न देश को बर्बाद करने का एजेंडा चल रहा है| फिर चाहे वो पशचिमी देशो मे मुसलिम शरर्णथीयो का समर्थन करना हो या रोंहिग्या के मुदे पे अााधा सच दिखाना ना जाने कब से यह दिखाया जा रहा था कि रोहिंगया मुसलिम शरणार्थीयो के साथ कितना जु्र्म,अत्याचार हो रहा हेै| बल्कि बोद्ध तो छोडिये इन लोगो ने रखाईन प्रांत मे हिंदुओ कौ भी नही छोडा 100 से ज्यादा शव मिलने पर सारे सेक्युलरो के मुंह मानो दही जम गयी हो| अरे इन लोगो का इतना ब्रेन वाश किया जा चुका है कि जहां भी जाएंगे गंदगी ही फैलाऐंगे ओर फिर यदी इतने ही हयूम्न राईटस वाले हितैषी है|तो पहले इस बात का उत्तर दे कि कोई भी अरब मुसलिम देश इन्हे शरण क्यूं नही दे रहा है? सच तो यह है कि यह संस्थाए ओर इनको चलाने वाले पैसे मिलते ही गिरगिट कि तरह रंग बदलते है हर जगह हर देश मे किसी ना किशी विचारधारा का सर्मथन कर परेशानी ओर विवाद पैदा कर रहे है ओररइसमे उपर से लेकर नीचे तबके हर वर्ग के लोग शामिल है| इनको एक सोफ्ट वेप्नस कि तरह इसतेमाल किया जा रहा है| ओर हर देश अपने से संपन्न देश को बर्बाद करना चाहता है एक जगह तो इनही कट्टरवादी ताकतो को हथियार दिए जाते है ओर उसके बाद शरणार्थी सम्सया खडी कि जाती है इस तरह जहर एक जगह ना रहकर संपुर्ण विश्व मे फैलाया जाता है ओर फिर धीरे-धीरे उस देश को अंदर से खोकला किया जाता है| अंततः उसे जंग का मैदान बना दिया जाता है ओर उसमे सबसे बडा सहायक एसी संस्थाएं होती है जो मानवता के नाम पर अपना गुप्त एेजेंडा चलाते है| सर्वपर्थम तो इन्ही संस्थाओ को खत्म कर प्रतयेक देश अपने तरीके से अपनी सम्सया सुलझाए जब तक इनका प्रभाव को सीमीेत कर इन पे सख्त कानून के दायरे मे लाया जाना चाहिए जिसे इनकी जवाबदेही तय कि जा सके अन्यथा एसी संस्थाए विवाद ही पैदा करेंगी अोर विावद से नफ्रत ही बढेगी|

Saturday, 5 August 2017

स्वदेशी अपनाए देश सेवा मे अपना योगदान बढाए

भारत ओर चीन के बीच तनातनी के चलते देश मे अलग-अलग संस्थअो द्वारा चीनी समान का बहिषकार करने कि लोगो से  अपील कि जा रही है लेकिन इसी बीच कुछ लोग एसे भी है| जो यह कहते है सरकार अाधिकारिक तौर पे  यह काम कयो नही करती? ओर अपने अाप को कथित देशभक्त साबित कर एसे अांदलनो के रास्ते रोडे का काम करते है| एसे लोगो को देश से कोई मतलब नही केवल सरकार को घेरने का मौका चाहिए क्योंकि यह जानते है कि एसा करना लगभग असंभव है जिसका कारण है विश्व व्यापार संधि जिसके तहत कोई भी देश अंतराष्ट्रिय व्यापार मे पूर्णता प्रतिबंधित नही लगा सकता तो एसे मे सवाल उठता है कि क्या चीनी समान का बहिषकार का कोई लाभ नही क्या जो लोग संस्थाए एसा कर रहे है उनके प्रयास का कोई मोल नही काफी असमंजस कि स्थिति ओर कई प्रशन उमड रहे होंगे| तो इसका उत्तर कुछ इस प्रकार है जापान मे भी यह अंतराष्ट्रिय संधि लागु होती है लेकिन फिर भी वहां अमेरिका के लोग अपना समान नही बेक सकते जिसमे ऊनकी सरकार इसमे कोई दबाव नही बल्कि वहां के देश के लोगो का अपने देश के प्रति देशे भक्ति का भाव है| दर्शल द्तीय विश्व युद्ध के बाद जापान के नागरिको ने यह ठाना कि अमेरिका कि कोई भी वस्तु का उपयोग नही करेगें बल्कि स्वदेशी समान को ही अपनाएंगे ओर खुद इतने सश्कत होंगे कि दुनिया भर मे हमारा समान बिके परिणाम स्वरुप अमेरिकी कंपनिया जापान से सदैव अार्थिक घाटा हि झेलती है इसी कारण अमेरिकी कंपनियां ना के बराबर हि जपान मे निवेश करती है| जिसका  एक ओर कारण जापानी प्रडक्टस का गुणवत्ता ओर कीमत के मामले अधिक सक्शम होना है होंडा,सुजुकि,पैनासोनिक, यह वो नाम है जिनकी तुती दुनिया भर मे बोलती है| ठीक इसी प्रकार यदि हम नागरिक स्तर पे इस अांदोलन को जापान के लोगो कि तरह प्रेरणा लेेते हुए बढाए तो हम बिना युद्ध लडे ही चीन को परास्त कर सकते हाल ही मे अभी हमारे व्यापारियो ने ओर हमारी बहनो ने राखी के  इस पर्व पर सहयोग से चीन कि एक कंपनी को बीस करोड का घाटा हुुुया है जिसका असर वहं के सरकारी अखबार मे उस व्यापारी ने खीज मे लिखा कि हमे भारत का कुछ करना होगा लेकिन इसे अभी पूरे देश मे प्रभावी बनाना होगा| दोस्तो हर काम सरकार या सेना नही कर सकती बल्कि नागरिको को भी अपने स्तर पर करने होते है| क्योंकि नागरिको से देश बनता है यदि जापान जैसेे देश एसा कर सकते है तो हमे भी उनसे प्रेरणा लेनी चाहिए अाखिर हर बार सेना ही लडाई कयो करे? जबकि देश कुछ एसे गद्धार मौजूद है जो सेना कि कार्यवाही का सबूत मांगते है| सेना से सबूत तो सेना तो नागरिको के लिए होती है ओर यदी नागरिक हि अपनी जिम्मेदारियो को ना समझे तो बडी से बडी सेना भी छोटि से छोटि लडाई भी नही जीत सकती इस बात का सबसे बडा उदाहरण है वियतनाम ने जब अमेरिका को युद्ध मे परास्त वहां के लोगो बंदूक से ही अमेरिकी जैट मटियामेठ कर दिये थे| एक-एक शहरी अपनी जान देने के लिए तैयार था गोरिल्ला टैक्टिक्स से इतनी अाधुनिक तकनीकयुक्त सेना को पछाड दिया ओर अपने देश से भगा दिया|

Monday, 31 July 2017

नार्थ कोरिया ओर पाकिसतान दुनिया के लिए बन सकते है गहन संकट

द्क्षिण एशिया मे पाकिस्तान अोेर पूर्व मे नार्थ कोरिया दोनो इस वक्त दुनिया के लिए एक गहरा संकट है| दोनो देशो मे एसे हालात बन रहे है जो दुनिया को तीसरे विश्व युद्ध या एक बहुत बडे वैशविक संकट कि ओर धकेल सकते है| जहां एक ओर पाकिस्ताम मे तख्तापलट होना ना केवल पाकिस्तान बल्कि भारत के लिए भी  एक बडा खतरा हो सकता है कारण पाकिस्तान मे जब भी तख्तापलट होता है तब वहां कि सेना सत्ताह पे काबिज होने कि कोशिश करती है ओेर अपना प्रभुत्व स्थापित करती है| पाकिस्तान का इतिहास रहा है जब भी वहां तख्तापलट हुअा तब तब भारत से जंग हुई ओर इस समय तो अार्थिक रुप से भी अातंकिस्तान दिवालिया होने के निकट है इसी के साथ पाकिस्तान के परमाणु बम के अातंकियो के हाथ मे जाने का खतरा लगातार बना हुअा है| अातंकिस्तान कि भारत के प्रति द्वेष कि भावना इतनी प्रबल है कि उसके लिए पाकिस्तान किसी भी हद तक जा सकता है यहां तक कि अपने परमाणु तकनीख को दूसरे देशो को बेचने कि कोशिश पहले कर चुका है| अोर विश्व के विद्वानो का तर्क है कि पाकिस्तान अपने अार्थिक संकट के लिए एटम बम कि तकनीक दूसरेे  देशो को बेचने से परेह्ज नही करेगा|वही दूसरी ओर उतर कोरिया लगातार लंबी दूरी तक वार करने वाली मिसाईलों का परीक्षण करने मे लगा हुअा है जिसके चलते रोज अमेरिका से युद्ध कि धमकी देने से बाज नही अाता अभी हाल ही मे जानकारो कि माने तो पाकिस्तान भी नार्थ कोरिया के इन प्रयासो मे उसकी तकनीकी रुप से सहायता कर रहा है| उसने जापान केि सीमा मे अपना मिसाइल परीक्षण किया जिसके जापान सख्त कदम उठाने का निर्णय लिया है| ओर अमेेरिका ने अपना बमवर्षक वाहन जापान ओर उतर कोरिया कि सीमा मे तैनात कर दिए ओर जरुरत पडने पर ठोस कदम उठाने से भी नही चुकेगा वही दूसरी अोर गौर करने वाली बात यह है कि कोरिया हो या अातंकिस्तान इन दोनो को चीन का संरक्षण प्राप्त हो रहा है| उलटा किम जोंग उत्तर कोरिया को समझाने कि बजाय चीन अमेरिका कोई हिदायत दे रहा है उधर अाज ही अास्ट्रेलिया मे विमानो के जरिए अातंकी हमले साजिश नाकाम कि ग‌यी है अोर जांच एेजेंसियो को अापरेशन के हैन्डलर्स पाकिस्तान मे मौजूद होने सबूत मिले है| इसे इस बात को बल मिलता है कि अातंकिस्तान मे सेना ओर अातंकियो मे कोई फर्क नही है ओर ना जाने कब पाकिस्तान के एटम बम अातंकियो के हाथ लग जाए अाप देख ही सकते है किस प्रकार गंभीर परिस्थितियां उमड रही है जिसमे 3-6 देश सीधे तरह से सम्मलित है एक कि भी चूक ओर परिणाम विनाशकारी भी हो सकता है एसा मै इसलिए कह रहा हूं जरा अाप लोगे पढेंगे ओेर खोजबीन करेंगे कि द्तीय विश्व युद्ध कैसे शुरु हुअा तो अाप कारण जान अपना सर पिट लिंगे एक जान कि कीमत के बदले सैकडो जानें कुर्बान कर दी गयी|

Friday, 28 July 2017

शीत युद्ध ३.०

डोकलाम विवाद पे जिस प्रकार भारत अोेर चीन के बीच जो जंग चल रही है उसे 21वी सदी का शीत युद्ध कहना ज्यादा सहज होगा| लेकिन अपने पाठको को पहले यह बता दूं कि शीत युद्ध होता क्या है? इसे अाप अंग्रेजी मे "कोल्ड वार" के नाम से भी जानते है सर्वप्रथम यह युद्ध दि्तीय वि्श्व युद्ध के बाद सोवियत संघ अाज का रुस अोेर अमेरिका के बीच लडा गया था| यह पारस्पारिक युद्ध से अलग होता जिसमे गोला,बारुद या हथियारो का इस्तेमाल नहि होता बल्कि इसे विचारो का युद्ध कहते है जिसमे लेखको को की कल्म देश का मीडिया एक दूसरे के ऊपर रणनीतीक दबाव बनाते है लेकिन अह्म सवाल यह कि यह युद्ध किस बात को लेकर था| तो जैसा कि अाप सभी जानते है कि दि्तीय विश्व युद्ध के बाद सोवियत संघ अोर अमेरिका दो शक्तिशाली देश थे अार्थिक ओर मिलिट्री दोनो ही क्षेत्रो  मे लेकिन यह युद्ध भविष्य के अार्थिक तंत्र को लेकर विश्व मे किस प्रकार के अार्थिक माडल कि दुनिया के दूसरे देश अपनाएंगे एक तरफ था सोशलिस्ट तंत्र जिसकी अगुवाई सोवियत संघ कर रहा था दूसरी तरफ था निजिकरण प्रावेटिस्ट कैपिटल माडल जिसकी अगुवाई अमेरिका कर रहा था सभी अन्य देश पुरा विश्व दो धडो मे बट चुका था| सोशलिस्ट माडल मे सारी पावर सरकारी विभागो के पास होती है सभी सरकारी विभागो के अह्म निर्णय सरकार लेती है जब कि कैपिटलिस्ट माडल मे विभागो का एकिकरण हो जाता लिबिरलाइजेशन,प्राईवेटाईजेशन,ग्लोबलाईजेशन सरल शब्दो निजिकरण,एकिकरण यह माडल अमेरिका का है| इसी विषय पे दोनो देश अामने-सामने अा गये अोर स्थिति युद्ध तक पहुंच गयी कयू्बा छोटे से तटिय देश पर रुस ने अपनी बैलिस्टिक मिसाईलस टेस्टिंग कि जिस प्रकार चीन ने तिब्बत मे युद्ध अभ्यास किया था| जवाब मे अमेरिका ने भी अपना यु्द्ध पोत कैरिबियन सी मे तैनात कर दिया अोर अंतिम चेतावनी दि कि हम फुल स्केल न्युकलियर वार के लिये तैयार है| लेकिन युद्ध को रोकने के प्रयास से अमेरिका ने एक संदेश रुस को भेजा इसे ना केवल दोनो ही देश अपितु पूरी दुनिया तबाह हो जायेगी जिसके चलते सोवियत संघ ने अपने सैनिक वापिस बुला लेिए अौर एक बहुत बडा संकट टल गया| लेकिन सोवियत संघ अपना ज्यादा खर्च सेना ओर हथियारों पे करता था जिसके चलते वहां पे अार्थिक संकट बढता चला गया,बेरोजगारी बढती गयी अोर धीरे-धीरे सोवियत संघ टूट कर कई अलग देशों मे बंट गया जिससे यह साबित हो गया कि अमेरिका का एलपीजी माडल भविष्य के लिए ज्यादा त्रेष्ठ है अब एसी ही स्थिति भूटान के डोकलान क्षेत्र को लेकर जिस पे चीन अपना दावा करता है भारत अोर चीन कि है भारत ओर भूटान का संबध इतना गहरा जिस प्रकार अमेरिका अोर क्यूबा के संबध थे|  जिसके चलते भारत भूटान को कोई अलग देश नही मानता बल्कि भारतीय सेना ही भूटान कि सीमा सुरक्षा करती है भारत ओर भूटान के लोगो कि किसी विजा कि जरुरत नही पडती दोनो देशो के नागरीक किसी राज्य कि तरह यहां से वहां या वहां से यहां अा जा सकते है| इसी कारण भूटान अोर भारत दोनो कि संप्रभुता को बचाने के लि‌ये भारत ने डोकलाम क्षेत्र पर सख्त कदम उठा वहां पे अपनी सेना तैनात कर दी अोर चीन को सडक बनाने से रोक दिया वहां पर सडक बन जाने से ना केवल भूटान बल्कि चीन भारत ,भूटान, सिकिम्म को जोडने वाले सिलिगुडी कारीडोर तक पहुंच जाएगा |चीन का मीडीया भी रोज भारत पे दबाव बनाने के लिए धमकी देता रहता है लेकिन भारत भी पीछे हटने को तैयार नही अपने रुख पे अडिग है अोर साफ कहा हम भी युद्ध के लिए सज है| जिसको देखते हुए अजित डोभाल चीन दौरे पर गये अोेर बातचीत करी जिसमे चीन भी यह कहने को मजबूर हो गया कि प्रधानमंत्री मोदी के नेतॄत्व मे हिंदोस्तान कि विदेश नीती मजबूत हुई है जिसमे साफ पता चलता है कि दोनो देशो के बीच चल रहा यह शीत युद्ध अागे भी एसे ही जारी रहेगा अोेर विचारो कि गोलीबारी एसे ही जारी ही रहेगी|




























Monday, 24 July 2017

नार्थ कोरिया धरती का जिंदा नर्क

नार्थ कोरिया एक एसा देश जो कि अपने  अाप मे ही अाज के परिवेश मे किसी बुरे सपने से कम नहि अाज भी वहां पे तनाशाहाअो का राज चलता है| यह जानकर बहुत हैरानी होगी कि नार्थ कोरिया मे ना तो इंटरनेट है, ना वहां के नागरिक अपनी मर्जी से कही अा जा सकते है, ना ही पहन सकते है, ना ही खा सकते है, ओर ना ही अपने देश मे अपनी मर्जी से अा जा सकते है| वहां पे टेलिविजन पर केवल एक ही चैनल अाता है कुलमिलाके वहां के नागरीकों पर अपनी मर्जी से सांस लेने तक का अधिकार नही है| वहां कि मताएं अपने बच्चो से कहती है कि तुम्हारी अवाज इतनी कम होनी चाहिए कि चूहा भी ना सुन सके क‌योंकि यदि हमारे तनाशाह कि तुम्हारे मन मे क्या चल रहा है इस बात कि भनक तक ना लग सके यहि वहां के नागरिकों कि जीवन पद्धति है| वहां केवल किम जोंग जो उनका तानाशाह है उसकि चलती है यहां तक कि यदि वहां का कोई प्रेमी अपने से या तनाशाह कि हरम कि लडकियो से किसी ज्यादा सुंदर लडकी से विवाह करना चाहता है तो उसे पहले किम जोंग के साथ हम्बिसतर होना पडेगा विरोध करने वालो कि वहां पे कोई गिनती नहि है उसे सीधा सजा-ए-मौत दे दी जाती है| अपनी इसी सनक के चलते वहां का तानाशाह अमेरिका जैसे देश को भी युद्ध कि धमकी देता रहता है उसकि सनक इतनी है कि कैमिकल हथियारो बनाने कि अोर फिर उसके जरिये दुनिया को फतह करने कि चाह मन मे पाले हुए है| अपनी सनक के लिये वो अपने मुल्क कि भी बलि दे सकता है | इसी डर के साये मे  वहां के लोग अपना जीवन बिताते है जिनके बस मे होता है वो देश छोड दूसरे देशो मे शरणार्थी बने को मजबूर है| जो देश छोङने कि कोशिश मे पकडे जाते है उन्हे मौत कि सजा सुनाई जाती है| वहां के सरकारी अखबार मे भी केवल वो छापा जाता है जो किम जोंग चाहते है स्वतंत्रता जैसे विचारो कि कोई सुनवाई नहि है नार्थ कोरिया अपने-अाप मे  एक अविशवशनिय देश है वहां के तानाशाह के किम जोंग के अागे तो हिेटलर भी पानी कम चाय है| एक एेसा देश जहां अाप अपनी मर्जी से जा सकते है लेकिन अा नहि सकते है| अौर विडंबना देखिए हमारा इतना बडा देश है परंतु फिर भी हमारे देश मे  हर क्षेत्र मे एसे गद्धार बैठे है कि उनके होने से दुसमनो कि जरुरत नही है अब मै एक विडियो लिंक डालने जा रहा हूं इस विडियो को जरुर देखे ओर खासके वो बुद्धिजिवी जो खाते तो यहां का है लेकिन गुणगान कही का करते यह वीडियो देखने के बाद खुशकिस्मत समझे अपने अाप को जिन्होने यहां पे जन्म लिया है जो भारतीय है भारत माता कि जय बोलने मे हिचकिचाए नहि चाहे कोई भी हो यह देश यहां के लोगो ने बनाया है जिन्हे इसकी कद्र नहि अोेर जरा सोचिए जो लोग अब तक अपने देश कि सहि मायनो मे अाजाद कराने के लिए संघर्ष कर रहे है कयोंकि उन लोगो से यदि पूछेंगे कि जीवन मे सबसे बडा पाप कौन सा है तो उनका जवाब होगा देश से गद्धारी उनके लिये देश से गद्धारी का अर्थ है भगवान,खुदा उस उपर वाले से गद्धारी वो उपरवाला भी इस पाप को माफ नहि करता| एसा क्यों वो अाप इस विडियो को देखकर समझ जाएंगे वन यंग वर्लड नाम कि संस्था के अाप फेसबुक अोर युटयुब पे जुड के इसे ्ओर ज्यादा से ज्यादा अपना समर्थन दे ओर लोगो को जागरुक करे  

Monday, 17 July 2017

बीसीसीअाई ने खेल को खेल नही बल्कि एक धंधा बना के रख दिया है

पिछले कुछ महीनो से कोहली अोर कोच अनिल कुंबले के बीच चली अा रही खींच-तान अाखिरकार थम ही गई| रवि शास्त्री के मुख्य कोच के चयन ने एक बार फिर जाहिर कर दिया कि क्रिकेट मे चयनकर्ताओ से ज्यादा कप्तान कि चलती है| उस कि पसंद ओर नापसंद का ख्याल सर्वोपरी है| वैसे ताजुब कि बात तो यह है कि दुनिया का सबसे अमीर क्रकेट र्बाड होने के बावजूद कप्तान अोर कोच के बीच जो संघर्ष देखने को मिला वो तो शायद ग्रेग चैपल के दौर मे भी नहि मिला साथ ही राहुल द्रविड ओर जहीर खान के चयन से गांगुली अोर शास्त्री के बीच कि जो गहमा-गहमी है वो भी जग जाहिर हो गई वीरेंद्र सहवाग के दौड मे पिछड जाने के बाद दादा ने दिखा दिया कि क्यों उन्हे इस खेल का दादा कहा जाता है| लेकिन दुखद बात यह है कि अनिल कुंबले के इतने सफल कार्यकाल के बाद भी उनको इसतीफे के लिये मजबूर होना पडा जो यह दिखाता है कि किस प्रकार इतने वर्षो मे क्रिकेट का राजनितीकरण हुअा है| क्यो बीसीसीअाई र्कोट अोर लोढा कमेटी कि सिफारिशो को लागु करने मे अब तक नाकाम रहि है| बीसीसीअाई ने खेल को एक धंधा बना दिया है तभी तो खिलडीयों कि इतनी भारी अामदनी के बावजूद भी मैच फिक्सिंग,कैच फिक्सिंग अाईपीएल के फिक्सिंग कान्ड ने ना केवल खेल बल्कि खेलप्रेमियो कि भावनाओ को भी झंकझोर के रख दिया है| इस खेल के प्रति लोगो मे वो भावना नहि रहि जो पहले किसी जमाने मे हु्अा करती थी| तभी अाप लोगो को यह कहते सुनते होंगे कि यह मैच या ये खिलाडी बिक चुका है अोर कइ बार जब सट्टेबाज अोर बुकिज पकडे जाते है तब इन बातो को ओर बल मिलता है| अाज भारतीय क्रिकेट कि यह जो स्थिति है उसका कारण है कि एक खेल के प्रति इतनी जनभावनाये लोगो कि जिसने इस खेल को धर्म कि तरह देखा जाने लगा जिसका सबसे बडा नुकसान हमारे देश को यह हुअा है कि दूसरे खेलो को वो सम्मान प्राप्त नहि हुअा जो कि उन्हे होना चाहिए था यहां तक कि हमारा राष्ट्रिय खेल हाकी मे भारत कितना पिछड गया अथलिट मे तो मिलखा सिंह अोर पीटी उषा के बाद कोइ उस स्तर का धावक नहि मिल पाया जिसका परिणाम हम हर साल ओलंमपिक जैसी प्रतियोगिताओ मे देखने को मिलता है जब देश को यह सुने को मिलता है कि इतनी बडि जनसंखया वाले देश मे खिलाडि पैदा नहि होते लेकिन उन्हे कौन बताए कि क्रिकेट मे भारत जितना पैसा खर्च करता उसका अाधा भी अन्य खेलो मे लगाया होता तो  अाज हमारे देश के खेल का स्तर किसी अौर ही मुकाम पे होता अोर ना ही क्रिकेेट के कारण देश को बद्नामी झेलनी पडती क्योंकि जब सभी खेलो को बराबरी का सम्मान मिलता और बराबर सरकारी सुविधाएं मिलती तो लोग हर खेल को एक सम्मान रवैये से देखते ओर परिणाम यह होता कि केवल क्रिकेट मे ही कयों खेल जगत के हर स्पर्धा मे हिंदोस्तान सफलता कि नई इबादत लिखता जिसका सबसे बडा उदाहरण है अास्ट्रेलिया जिसने विश्व मे सबसे ज्यादा क्रिकेट विश्व कप के खिताब अपने नाम किये है| ओर जभी पांच साल बाद ओलंपिक प्रतियोगिताओ मे टाप पांच देशो मे ही शुमार होता है| जिसका कारण वहां के लोगो का हर खेल के प्रति सम्मान भाव,सम्मान अधिकार ओर युवाओ को अपने पसंदीदा खेलो के प्रति प्रोत्तसाहा्न करना जबकि क्रिकेट मे भी बराबरी का भाव होता तो भी समझ मे अाता जहां एक ओर विराट कोहली कि एक मैच कि अामदनी करोङो मे है वहि अगर अाप इसकी तुलना करे महिला क्रिकेट कप्तान मिताली राज से तो  अाप पाएंगे एक ही खेल के दो अलग वर्गो मे कितना बङा अंतर है पिछले अोलकपिंक्स मे एक के बाद एक जिस तरस से पदक कि दौड से हमारे अथलिटस बाहर हो रहे थे जिस समय भारत कि साख का सवाल था उस समय देश कि बेटियो ने ही देश कि इज्जत बचाई थी पीवी सिन्धु,साक्षी मलिक ये वो नाम है जो अभिनव बिंद्रा,जीतू राय जैसे बडे नामो पे भारी पडी थी ओर अभी चल रहे महिला क्रिकेट विश्व कप मे भारतीय टीम सेमीफाईनल मे पहुंच गई है| जबकि पुरुष ओर महिला वर्ग मे एक ही खेल मे सुविधाओ ओर पैसो का कितना भेद-भाव है| हालांकि पिछले कुछ सालो मे कब्ड्ङी,फुटबाल,जैसे खेलो कि अाईपीएल कि तर्ज पे होने वाली घरेलु लीगो का होना अारंभ हुअा है जिसे काफी सुधार देखने को मिला है जो कि एक सराहनीय प्रयास है लेकिन अभी बहुत सुधार करना बाकि है जिसे भविष्य मे चलके देश मे खेल अोर खिलाडी का स्तर और ऊंचा किया जा सके|