Saturday, 26 September 2015

रक्षाक्षेत्र में महिलाओ की कम उपस्थिति ही उन पर बढ़ते अत्याचारों का मुख्य कारण है


आज -कल दिन -प्रतिदिन महिलाओ पे अत्याचार बढ़ता ही जारा है सायद ही कोई दिन ऐसा जाता हो जब हम अखबारों या टी.वी में महिलाओ से किये गए दुष्कर्म की कोई खबर ना सुनते हो पर किसी ने यह जाने की कोशिश की है की ऐसा क्यों हो रहा है? क्यों  महिलाये  रोज़ाना किसी अपराध का शिकार हो रही है? इसकी  सबसे बड़ी वजह सरकार की विफल नीतियाँ तो है ही लेकिन हम भी उतने ही जिम्मेवार है जितना की सरकार आखिर क्या सीखा हमने दिल्ली गैंगरेप हादसे के बाद? क्या हमने उसे कोई सबक लिया? केवल सख्त कानून बनाने से बदलाव नहीं आएगा बदलाव तब आएगा जब हम उन कानूनों को सुचारू रूप से लागू करे और साथ ही साथ महिलाओ को सशक्त बनाने की और काम करे क्यूंकि इन बढ़ते अपराधो की एक और बड़ी वजह यह है की हम महिलाओ को बराबरी का अधिकार नहीं देते कोई बता सकता है की हमारे देश में कितने ऐसे थाने है जो महिलाओ के अंडर है या कितने ही थाने है जहाँ पुरुष महिलाओ के अंडर काम करते है सिर्फ केरला ही एक मात्र  ऐसा राज्य है जहाँ पे स्पेशल वीमेन पुलिस स्टेशन है आज जब महिलाये हर क्षेत्र में पुरुषो के साथ कंधे से कंधा मिलाकर चल रही है तो डिफेन्स में क्यों नही डिफेन्स में महिलाओ की कम उपस्थिति ही इस दुर्गम स्थिति का मुख्य कारण है क्यूंकि इसकी वजह से समाज में संवेदनशीलता समाप्त होती जा रही है जिसे महिलाओ के प्रति अत्याचार बढ़ रहा है यदि हम ज्यादा से ज्यादा संख्या में महिलाओ की भर्ती रक्षाक्षेत्र में करते है और उनके अधिकार बढ़ा देते है तो ना केवल उनके प्रति अपराध कम होगा बल्कि समाज में महिलाओ के प्रति कम होती संवेदनशीलता बढ़ेगी बल्कि महिलाओ के प्रति सम्मान भी बढेगा और धीरे-धीरे यह दुर्गम स्थिति ख़तम हो जाएगी और महिला सशक्तिकरण का सूर्योदय होगा जिसकी आज देश को बहुत आव्यशकता है क्यूंकि जिस देश में महिलाओ का सम्मान  नही होगा वह देश कभी विकास की और नही बढ़ पायेगा



Saturday, 19 September 2015

वाईफाई से पहले बेहतर कनेक्टिविटी तो दे दो

स्मार्ट सिटी योजना के तहत 100 स्मार्ट सिटीज को चुना गया है! जिनके कुछ मापदंड निर्धारित किये गए है! जिनमे से एक है पुरे शहर को वाईफाई की सुविधा से युक्त करना! जिसमे से राजधानी दिल्ली भी एक है! और मौजूदा हालात तो यह है की वाईफाई को तो छोडिये दिल्ली में लोग ठीक से फ़ोन पे बात नही कर पा रहे है! कम से कम 20 जगह ऐसी है जहाँ पे कॉलड्रोपिंग की समस्या सबसे अधिक है! जिसकी सबसे बड़ी वजह यह है की दूरसंचार सेवा देने वाली कंपनियों ने अपने ग्राहक तो बढ़ा लिए लेकिन नेटवर्क की क्षमता का विस्तार नही किया! उदहारण के तौर पे 6 कि.म के क्षेत्र को वाईफाई से युक्त करने के लिए 60-80 टावर्स की जरुरत पड़ती है! और जबकि हालात यह है की जो टावर्स साल 1990-2000 के बीच लगाये गए थे वह अभी तक है! उनका विस्तार उस तरह से नही हुआ जिस तरह से जनसंख्या का हुआ है! अब चाहे आपको कॉलड्रोपिंग की समस्या से छुटकारा पाना हो या दिल्ली को वाईफाई युक्त बनाना हो दोनों का सीधा सा हल यही है की दिल्ली में ज्यादा संख्या में नए टावर्स लगाये जाये और पुराने टावर्स का रखरखाव सही से किया जाए क्यूंकि जब टावर्स बढ़ेंगे तो बेहतर कनेक्टिविटी होगी और जब बेहतर कनेक्टिविटी होगी तो कॉलड्रोपिंग की समस्या भी ख़तम हो जाएगी और दिल्ली को वाईफाई से युक्त करने के लिए भी नए टावर्स का निर्माण जरुरी है!