adcode

Thursday, 3 December 2015

पिच पे होती किच-किच



आज कल भारत में ही नही बल्कि अन्तराष्ट्रीय क्रिकेट में भी पिचों पर कुछ ज्यादा ही ध्यान दिया जा रहा है
 यदि कोई टीम हारती है तो वह पिच को जिम्मेदार ठहराती है और यदि जीत ती है तो उसका श्रेय भी खिलाडियों से ज्यादा पिच को दिया जाता है कहते है की पिच में टर्न काफी था इसलिए भारत जीत गया अभी हाल ही में भारतीय टीम ने ज़बरदस्त प्रदर्शन कर टेस्ट श्रृंखला अपने नाम कर ली और दोनों टेस्ट मैच तीन दिन में ही ख़तम हो गये तो सारा ठीकरा पिच पे फोड़ दिया खिलाडियों के साथ-साथ लोग भी आलोचना करने लगे की यह भी कोई टेस्ट मैच है जो तीन दिन में ही ख़तम हो गया और बिना सोचे-समझे पिच को कोसने कहने लगे की इतना ज्यादा टर्निंग ट्रैक तैयार करने की क्या जरुरत थी जिसे मैं बिलकुल भी सही नही मानता ऑस्ट्रेलिया ने भी तो न्यूजीलैंड को तीन दिन में हरा दिया तब क्यूँ नही किसी ने पिच को कोसा ज़ाहिर सी बात है कोई भी होम टीम अपने मन मुताबिक पिच चाहेगी तो इसमें बुराई ही क्या है यदि भारत में स्पिनर्स को ज्यादा एडवांटेज मिलता है यहाँ पिचों से उन्हें अच्छा टर्न मिलता है तो टर्निंग पिचेस तैयार करने में क्या बुराई है क्या जब हमारे खिलाडी बहार खेलने विदेश जाते है तो वहां पे भी तो पहले ही दिन से बॉल स्विंग करना शुरू कर देती है क्या वो हमारे लिए स्पेशल पिच बनवाते है नही ना तो हम भी क्यूँ उनके मन मुताबिक पिच बनवाये क्या इंग्लैंड,ऑस्ट्रेलिया या कहीं भी  भारतीयों के लिए टर्निंग पिचेस बनायीं जाती है नहीं ना तो हम ऐसा क्यूँ करे यदि हमारे टीम को टर्निंग पिचेस पसंद आती है तो टर्निंग ट्रैक्स तैयार करने में कोई गलत बात नही है हर टीम अपने होम एडवांटेज लेना चाहती है तो इसमें किसी को कोई दिक्कत नही होनी चाहिए यदि खिलाडी अच्छा परफॉर्म नही कर रहे है तो उसमे उनका दोष है उनमे कोई कमी है पिच में नही ऐसा तो नही था की सिर्फ भारतीय स्पिनर्स विकेट ले रहे थे अफ्रीकी स्पिनर्स नही वो भी तो विकेट ले रहे थे इस हिसाब से  दोनों ही टीम्स के लिए बराबरी का मौका था लेकिन जो अच्छा खेला वही जीत ता है और वही जीता इसे पहले भारत एकदिवसीय और टी-20 श्रृंखला दोनों हार गयी तो क्या उसमे भी पिच का दोष है खिलाडियों का कोई दोष नही है तो इसलिए सभी आलोचकों से यही कहना चाहूँगा की किसी की हार और जीत का दोष आप अपने खिलाडियों और उनकी परफॉरमेंस को दे ना की पिचेस को
Post a Comment