adcode

Sunday, 14 August 2016

देर आये दुरुस्त आये

ना जाने कितनी सरकारे आई और गई| ना जाने कितने ही मौसम बदले| लेकिन कभी भी किसी ने कश्मीर पे एक उचित पक्ष जों रखना चाहिए था| वो नही रखा| यदि प्रधामंत्री ने कश्मीर पे अपना पक्ष रखा है| वह अतुलनीय है| हमे उम्मीद है| की  अब इसे पीछे नही हटेंगे| पिछली सरकारे यह काम पहले कर लेती तो शायद दोनों देशो के बीच कश्मीर पे जों विवाद है| वो बहुत पहले ही ख़तम हो गया होता| लेकिन तमाम राजनितिक दलों ने वोटबैंक की राजनीती के चलते| देश की एकता और अखंडता में फूट डालने का काम किया| जिसके फलस्वरूप कश्मीर में अलगावादियों और आतंकी जैसे अराजक तत्वों ने अपने पैर पसार लिए| उसे भारत से अलग करने की नाकाम कोशिशे की और अबतक कर रहा है| जों अब कश्मीरी बहन-भाइयो को बरगला कर जिहाद के नाम पे उनका शोषण कर अपना उल्लू सीधा कर रहा है| यह देखकर अच्छा लगा की सभी राजनितिक दलों ने सर्वदलीय बैठक बुलाकर कश्मीर के मुद्दे पे एकसाथ खड़ी हो गयी| इसलिए कहना पड़ेगा की देर आये लेकिन दुरुस्त आये| क्यूंकि यह बात तो समझ के परे थी|मतलब की जब कश्मीर भारत का अखंड अंग है| तो उसे लेकर पाकिस्तान से  बात-चित क्या करना करना| यदि बातचीत करनी है| तो पाकिस्तान ने अवैध तरीके से  कश्मीर के जिस भाग पर कब्ज़ा कर रखा है| जिसे वह आज़ाद कश्मीर भी कहता है| जों भारत का हिस्सा है| बात तो उस पे होनी चाहिए| इस बात का सबूत तो पडोशी देश खुद ही अपनी नापाक करतूतों से दे चूका है| की आज़ाद कश्मीर भारत का अंग है| जरा आप ही बताइए भाइयो-बहनों कौन सा ऐसा मुल्क है| जों अपने ही राज्य और  नागरिको दोनों पे ही बम बरसाता हो| हवाई हमले करवाता है| पाकिस्तान केवल आज़ाद कश्मीर और वहां की भोली-भाली अवाम का इस्तेमाल कर रहा है| आज़ाद कश्मीर की धरती का केवल अपने नापाक हितों के लिए इस्तेमाल कर रहा है| वहां पे ना जाने अनगिनत तादाद में फ़िदायीन और जेहादी तैयार किये जा रहे है| और मैं यह भी जानता हूँ की ज़्यादातर कश्मीरी भाई-बहन भारत का ही समर्थन करते है| क्यूंकि हर सच्चा कश्मीरी यह जानता है| की जब कश्मीर में सैलाब आया तब यह अलगावादी कहाँ थे| आपदा के समय जब ना जाने कितने ही कश्मीरी भाई-बहनों को बेघर होना पड़ा| तब यह अलगावादी कहाँ थे? क्यों नही मदद करने आये? कहाँ गायब हो गये थे? मुसीबत के समय भारतीय जवानों ने अपनी जान पे खेलकर आप सभी की सहायता करी थी| इसलिए मरे प्रिय कश्मीरी भाइयो-बहनों मेरी आप सब से विनती है| सरकार ने यह जों कदम उठाया इसमें उनका योगदान दे| एक कदम आप बढाइये| दो कदम सरकार बढ़ाएगी| और तीन कदम पूरा हिन्दुस्तान मेरा मतलब है| की 15 अगस्त का मौका है| और मौका है| आप सभी के पास भी की एक साथ सभी अपने घरो में, मस्जिदों में अथवा हर उस जगह जिसे आप उचित मानते है| फेहरा दीजिये तिरंगा और दिखा दिजिये इन मुट्ठीभर देश के गदारो को की चाहे कुछ भी हो जाये एक सच्चा हिन्दुस्तानी अपने मुल्क से ग़द्दारी नही कर सकता| क्यूंकि आप सभी एक मुसलमान,सिख ,हिन्दू,जैन किसी भी धर्म या जाती से क्यों ना हो| लेकिन सबसे  पहले एक हिन्दुस्तानी है| और हिन्दुस्तानी होने के नाते देश के प्रति आप सबका कर्त्तव्य सर्प्रथम है| क्यूंकि यह जों आजादी हमे मिली है| इनमे हिन्दू हो या मुसलमान,सिख हो या इसाई ना जाने कितने ही वीरो ने इस आजादी के लिए अपना बलिदान दिया है| इस उमीद में की आगे चलके हम इस धरोहर को संभाल के रख सके| जरा पूछिए अपने आप से| क्या हम उनकी उमीदो पर खरा उतर पा रहे है या नही? मरे सभी भाई-बहनों को 15 अगस्त की हार्दिक शुभकामनाये|
जय हिन्द 
Post a Comment